सोशल ग्रुप का शपथ विधि मनोरंजन कार्यक्रम सम्पन्न

सोशल ग्रुप का शपथ विधि मनोरंजन कार्यक्रम सम्पन्न



इन्दौर (म.प्र.)। श्रीजी वाटिका में गत माह माहेश्वरी सोशल ग्रुप का शपथ विधि कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। मुख्य अतिथि श्री गोविन्द मालू, विशेष अतिथि उद्योगपति श्री रमेश साबू उज्जैन थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता श्री श्याम सोनी ने की।
श्री मालू ने शपथ विधि पर कहा कि यह केवल शपथ मात्र औपचारिकता बनकर न रह जाए। हमें अपना नजरियां सकारात्मक की ओर रखना चाहिए और लक्ष्य सदा पूर्णता की ओर बढे इसके लिए जमीनी प्रयास से जुडे और जो सुना उसे जीवन में उतारे। यदि आप खुश होंगे तो जीवन बेहतर होगा और यदि आपके कारण कोई खुश होता है तो जिंदगी और अच्छी होती है। इसलिए समर्पण और निष्ठा के साथ लक्ष्य के लिए बढे। वर्तमान में सामाजिक समस्या तो कम है परन्तु मानसिक समस्या अधिक है। लक्ष्य प्राप्त करने के लिए हर व्यक्ति अपने तरह लक्ष्य प्राप्त करना चाहता है परन्तु उचित लक्ष्य के लिए व्यापकता अपनाना होगी।
विशेष अतिथि श्री रमेश साबू ने अपने उद््बोधन में कहा कि हम दुनिया को ठीक करने की बात करते हैं यदि आदमी को ठीक कर दें तो दुनिया स्वतः ही ठीक हो जाएगी। व्यक्ति की सोच दायरे में सुकड रही है। सोच की आदतें सुधारना है तथा अच्छी सोच का विस्तार करना अपने जीवन के लिए अच्छी राह है। आपने कहा कि अधिकांश लोग जीवन का उद्देश्य केवल पैसा कमाना ही मुख्य उद्देश्य रहता है परन्तु भगवान को गलत जगह ढुंढने का प्रयास करते हैं। आपने मूल रूप से व्यवहारिक बातों पर प्रकाश डाला। तीस मिनट तक अपने उद््बोधन में जीवन से जुडी कई अनुभवी बाते पर बताई और समाज को सही राह पर चलने के लिए सुझाव दिया।
श्री सोनी ने ग्रुप के माध्यम से नए आयाम पर कार्य करने पर अपने विचार व्यक्त किए। आपने भ्रुण हत्या व हत्या पर कहा कि आत्महत्याएं मनोविज्ञान का कारण है और भ्रुण हत्या पर रोक लगाने पर कहा और संस्कार की बातें बताई।
महेश वंदना की प्रस्तुति अनुराधा मालू, अर्चना बियाणी व राधा साबू ने प्रस्तुती दी तो स्वागत गान जयश्री बाहेती व तारा मालू ने किया।  अतिथियों का परिचय सुनीता बाहेती, भावना राठी, राधा साबू ने दिया। अतिथियों को सम्मान पत्र के साथ स्मृति चिन्ह प्रदान किए गए। कार्यक्रम का संचालन नितिन राजकमल माहेश्वरी ने किया तो आभार मोहन नीता सोमानी ने माना।

  इस ख़बर पर अपनी राय दें:
आपकी राय:
नाम:
ई-मेल:
 
   =   
 
ई-मेल रजिस्टर करें

अपनी बात
मतभेद के बीच मनभेद न आने दें...।

मतभेद के बीच मनभेद न आने दें...।